डॉ. विमल कुमार पाठक

डॉ. विमल कुमार पाठक की गीत सृष्टि

डॉ. विमल कुमार पाठक गीतकाव्य के महान गायक है। गीतकाव्य के समस्त गुण उनके काव्य में विद्यमान है। डॉ. पाठक के गीतों में भावों की विशुद्धता और तीव्रता है। आत्मभिव्यक्ति, प्रकृति के प्रति रागात्मकता, संगीतात्मकता, भावप्रवणता, सहज अन्त प्रेरणा, राष्ट्रीय, सामाजिक चेतना आदि सभी विशेषताएं डॉ. पाठक के गीतों में उपलब्ध है। यही कारण है कि वे इतने समर्थ गीतकार बन सके हैं। डॉ. पाठक मूलत: गीतकार है। अत: उन्होंने हिन्दी एवं छत्तीसगढ़ी दोनों मे ंही समान गति से गीतों की रचना की है। लोक-जीवन और समाज के विविध प्रसंगों को बड़ी मधुरता से गीतों में ढालते रहे हैं।

Tags: 

Subscribe to RSS - डॉ. विमल कुमार पाठक