संपादकीय

इस माह 19 जून को पंडित माधव राव सप्रे की 144 वीं जयंती मनायी जा रही है

सप्रेजी तत्कालीन मध्य प्रांत के एक विशिष्ट नायक थे जिन्होंने राष्ट्र सेवा की शुरूआत साहित्य और पत्रकारिता से की थी और फिर वे राजनीति में भी सक्रिय हुए थे। शायद सक्रिय राजनीति सप्रेजी जैसे स्वतंत्रचेता व्यक्ति के लिए उपयुक्त जगह नहीं थी इसीलिए सप्रेजी पुनः साहित्य और पत्रकारिता के माध्यम से राष्ट्र की राजनीति को दिशा देने में संलग्न रहे थे।

Tags: 

Subscribe to RSS - संपादकीय